Essay On Laxmi Narayan Mandir In Hindi

Laxminarayan Temple – लक्ष्मीनारायण मंदिर हिन्दू भगवान लक्ष्मीनारायण को समर्पित मंदिर है, जो नयी दिल्ली में बना यह पहला सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर है।

पहला सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर लक्ष्मीनारायण मंदिर – Laxminarayan Temple

लक्ष्मीनारायण मंदिर का इतिहास – Laxminarayan Temple History

लक्ष्मीनारायण साधारणतः विष्णु, त्रिमूर्ति के संरक्षक और साथ ही लक्ष्मी के साथ उन्हें नारायण के नाम से जाना जाता है। लक्ष्मीनारायण को समर्पित इस मंदिर के निर्माणकार्य की शुरुवात 1933 में हुई, इसका निर्माण उद्योगपति और दर्शनशास्त्री बलदेव दास बिरला और उनके बेटे जुगल किशोर बिरला ने करवाया, इस मंदिर को बिरला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

मंदिर के आधार स्तंभ का निर्माण महाराज उदयभानु सिंह ने करवाया था। इस मंदिर का निर्माण पंडित विश्वनाथ शास्त्री के नेतृत्व में करवाया गया। इसके बाद मंदिर में स्वामी केशवानंदजी ने यज्ञ भी करवाया। इस प्रसिद्द मंदिर का उद्घाटन 1939 में महात्मा गांधी ने किया था। उस समय महात्मा गांधी ने यह प्रार्थना भी की थी, यह मंदिर केवल हिन्दू मंदिर ही नही रहेगा बल्कि यहाँ पर दुसरे जाती-धर्म के लोग भी आ सकते है।

बिरला द्वारा भारत में जगह-जगह पर बनाये गए मंदिरों में यह पहला मंदिर है, इसी वजह से इसे बिरला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है।

मंदिर:

मुख्य मंदिर के भीतर भगवान नारायण और देवी लक्ष्मी की मूर्ति स्थापित की गयी है। मंदिर में दूसरी मुख्य मूर्तियाँ जैसे भगवान शिव, भगवान गणेश और हनुमान की मूर्ति भी शामिल है। साथ ही मंदिर परिसर में भगवान बुद्धा को समर्पित भी एक मूर्ति है। मंदिर की बायीं तरफ देवी दुर्गा की मूर्ति स्थापित की गयी है।

मंदिर तक़रीबन 7.5 एकर के परिसर में फैला हुआ है और लगभग 0.52 एकर के परिसर में मंदिर का निर्माण किया गया है। और इसके परिसर में बहुत से फाउंटेन, प्राचीन मूर्तियाँ और राष्ट्रिय शिलालेख भी बने हुए है। यह मंदिर दिल्ली आने वाले यात्रियों के आकर्षण का मुख्य केंद्र है। जन्माष्टमी और दीवाली के समय यह मंदिर लाखो श्रद्धालुओ को आकर्षित करता है।

Read More:

I hope these “Laxminarayan Temple History” will like you. If you like these “Laxminarayan Temple History” then please like our Facebook page & share on Whatsapp. and for latest update download : Gyani Pandit free android app.

Gyani Pandit

GyaniPandit.com Best Hindi Website For Motivational And Educational Article... Here You Can Find Hindi Quotes, Suvichar, Biography, History, Inspiring Entrepreneurs Stories, Hindi Speech, Personality Development Article And More Useful Content In Hindi.

The Lakshmi Narayan Temple in Delhi situated in Connaught place is one of the famous Birla Temples in India. It was built in 1938 and dedicated to Lord Vishnu and goddess Lakshmi. The carvings and the ornate descriptions of many Indian deities respond to the interests of tourists in the Indian religions. Janmashtami and Diwali are the two festivals that are elaborately celebrated

History

The Lakshmi Narayan Temple was built by Raja Baldev Das in 1938 and is familiarly known as the Birla Mandir. The temple was inaugurated by Gandhiji and in accordance to his requests people of all castes and religion are allowed within the temple grounds. The famous Birla family takes acre of the maintenance of the temple site.

Description

The Lakshmi Narayan Temple houses the idols of the goddess Lakshmi who symbolizes wealth and the deity of Lord Vishnu who represents power. The highest tower in the temple reaches to a height of 165ft. A distinct hallway known as the Geeta Bhawan paints Indian mythology in the artwork on the walls. Inside the temple grounds there are many other idols of different Indian gods and goddesses that inform tourists of the varied Indian culture and religious practices. The architecture of the temple, though depicts the ancient deities has a modern outlook. The temple is open on all days to for the tourists except Mondays. Anyone entering the temple grounds is advised to take off their shoes before starting their tour inside.

How to get there

Lakshmi Narayan temple is conveniently located for the tourists to reach the place by local buses, taxis and auto rickshaws from different points within the city.

0 Replies to “Essay On Laxmi Narayan Mandir In Hindi”

Lascia un Commento

L'indirizzo email non verrà pubblicato. I campi obbligatori sono contrassegnati *